पैरों की थकावट का मस्तिष्क पर पड़ता है असर

Connect with us

एक स्वस्थ मस्तिष्क और तांत्रिका तंत्र के लिए पैरों का व्यायाम करना जरूरी है। एक अध्ययन से पता जचला है कि पैरों का अभ्यास कम करने से तंत्रिका तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। इटली में मिलन विश्वविद्यालय के शोघकर्ताओं ने चूहों पर पैरों के गतिविधि को लेकर अध्ययन किया। शोधकर्ताओं ने चूहों के पिछले पैरों को उपयोग करने से प्रतिबंधित कर दिया, जबकि आगे के पैर उपयोग के लिए खुले रखे। 28 दिनों की इस अध्ययन के बाद पाया गया कि चूहों के पैर की गतिविधि को सीमित करने से तंत्रिका स्टेम कोशिकाओं की संख्या 70 प्रतिशत कम हो गई। इसके अलावा, उनके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा कम हो गई, जिससे मेटाबोलिज्म के बदल दिया। शोधकर्ता रफेल एडमी ने कहा कि हम सक्रिय रहने के लिए हैं। चलने, दौड़ने और चीजों को उठाने के लिए पैर की मांसपेशियों का उपयोग करें। मस्तिष्क और पैरों के आपसी न्यूरों संदेशों के आदान-प्रदान पर भी न्यूरोलॉजिकल हेल्थ निर्भर करती है।

Courtsy- amarujala

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *