हेजलनट्स खाने के फायदे और नुकसान (Benefit and side effect of Hazelnuts)

हेजलनट्स खाने के फायदे और नुकसान

हेजलनट्स के बारे में जाने-. आपने कई तरह के नट्स का सेवन किया होगा, लेकिन हेजलनट्स के बारे में शायद ही कभी पढ़ा या सुना होगा। यह भी एक प्रकार का नट होता है। हेजलनट्स का स्वाद हल्का मीठा होता है और यह रंग में पीला व भूरा दिखाई देता है। इसका सेवन कई तरह के बीमारियों को दूर रखने में मदद कर सकता है| इस लेख के माध्यम से हम जानेंगे की हेजलनट्स का उपयोग करने का तरीका और हेजलनट्स के फायदे के साथ ही हेजलनट्स के नुकसान के बारे में जानेंगे|

हेजलनट्स में मौजूद पोषक तत्व-. हेजलनट्स मे बहुत से पोषक तत्व मौजूद होते हैं. यह आपकी पूरी सेहत के लिए अच्छा है. हेजलनट में कैलोरी काफी मात्रा में होती है, लेकिन यह प्रोटीन, कार्ब्‍स फाइबर, विटामिन ई, विटामिन बी 6, थियामिन, मैग्‍नीशियम, कॉपर, मैगनीज, फोलेट, फास्फोरस, पोटेशियम और जस्ता जैसे पोषक तत्वों से भरपूर है|

हेजलनट्स खाने के फायदे (Benefits of Hazelnuts) :-

1.हृदय रोगियों के लिए फायदेमंद
लगभग सभी नट्स हृदय से जुड़ी बीमारियों को ठीक करने में फायदेमंद हैं। हेजलनट्स भी ऐसे ही कई गुणों से भरपूर है जो हृदय की बीमारियों में काफी असरदार हो सकते हैं। हेजलनट्स में एंटीऑक्सिडेंट और स्वस्थ वसा भरपूर मात्रा में पाई जाती है जो एंटीऑक्सिडेंट क्षमता बढ़ाने के साथ खून में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को काफी हद तक कम कर सकती है। इसी पर किए गए एक अध्ययन में काफी सुखद परिणाम देखने को मिले। फिर भी आप अगर गंभीर हृदय रोग से ग्रसित हैं तो इसे लेने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर ले |

2.कोशिकाओं को नष्ट होने से बचाए-
हेजलनट में एंटी-ऑक्सीडेंट्स की भरपूर मात्रा पाई जाती है, जो कि कोशिकाओं के ऑक्सीडेशन के बहाव को कम करता है। इसके साथ ही, रेडिकल की वजह से कोशिकाओं को पहुंचने वाली क्षति को भी कम करने में मदद करता है।

3.कैंसर के खतरे को कम करता है –
हेजलनट्स में एंटीऑक्सिडेंट, कई प्रकार के विटामिन और खनिजों की प्रचुर मात्रा पाई जाती है जो कैंसर के खतरे को कम करने में काफी कारगर है। हेज़लनट्स में प्रोएन्थोसाइनिडिन्स नामक एंटीऑक्सिडेंट पाई जाती है। जो कैंसर को रोकने और उनके इलाज में बहुत महत्वपूर्ण हो सकता है। इसके अतिरिक्त, हेज़लनट्स विटामिन ई से परिपूर्ण होता है, जिसे शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के रूप में जाना जाता है। विटामिन ई कोशिकाओं की क्षति से सुरक्षा प्रदान करता है, जिससे कैंसर का खतरा कम होता है।

4.उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए-
उच्च रक्तचाप की समस्या से बचे रहने के लिए हेजलनट्स का सेवन फायदेमंद साबित हो सकता है। दरअसल, उच्च रक्तचाप की समस्या के लिए सोडियम की अधिकता जिम्मेदार होती है। सोडियम को कम करने और उच्च रक्तचाप से छुटकारा दिलाने में पोटैशियम युक्त आहार मददगार हो सकता है । वहीं, हेजलनट्स में पोटैशियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है। इसलिए, हेजलनट्स के सेवन से रक्तचाप को संतुलित रखा जा सकता है।

5.शरीर में खून की कमी या एनिमिया की समस्या को कम करने में- हेज़लनट्स मददगार हो सकते हैं. जी हां, हेजलनट्स में भरपूर मात्रा में आयरन, प्रोटीन और पोटेशियम होते हैं, जो शरीर में खून की कमी को दूर करने में मददगार हैं|

6.अच्छे कोलेस्ट्रॉल के निर्माण में सहायक-
हेजलनट में मौजूद फॉलिक एसिड बैड कोलेस्‍ट्रॉल को कम करता है और ब्‍लड में गुड कोलेस्‍ट्रॉल को बढ़ाता है। नियमित रूप से इसके सेवन से बैड कोलेस्‍ट्रॉल को कम किया जा सकता है। रिसर्च के अनुसार हेजलनट के सेवन से ब्लड वेसल में रुकावट और आर्टरी पर जमा होने वाले खराब कोलेस्‍ट्रॉल के ऑक्‍सीकरण को कम किया जा सकता है।

7.स्वस्थ त्वचा और बालों के लिए है जरूरी
हेजलनट्स में विटामिन ई की उच्च मात्रा होती है, तो त्वचा को नमी प्रदान करता है स्वस्थ बालों को बनाए रखने में मदद करता है। विटामिन ई एंटीऑक्सिडेंट सूर्य की हानिकारक यूवी किरणों और सिगरेट के धुएं से होने वाली नुकसान को हील करने में मददगार होती है। हेजलनट के फायदे बढ़ी उम्र के निशान को रोकने में मददगार होती है। यह ब्लड फ्लो को बेहतर बनाने में भी मददगार होता है। विटामिन ई मुंहासे और झुर्रियों के इलाज में मदद करने के सबसे अच्छा स्त्रोत होता है।

8.मांसपेशियो और हड्डियों को मजबूत करे हेज़लनट –
कैल्शियम की अधिक मात्रा मांसपेशियों के संकुचन को बढ़ावा और रिलेक्स करने में मदद करती है हेज़लनट मांसपेशियों में तनाव, ऐठन, थकान व दर्द से बचाता है मैग्नेशियम हमारी मांसपेशियों की ताकत बढाने में बहुत मदद करता है तथा मैग्नीज भी हड्डियों को मजबूत करता है| और यह सभी गुण हेज़लनट में आसानी से पाए जाते है|

9. ब्लड शुगर को कम करने में मददगार-
हेजलनट्स के सेवन से ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में सहायता मिलती है हेजलनट्स के फायदे डायबिटीज में बहुत हैं. बादाम और अखरोट या हेजलनट्स ब्‍लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में मददगार है. 

10.शुक्राणुओं की संख्या में सुधार :-. कई शोधों से पता चलता है कि हेजलनट्स सहित अन्य नट्स के सेवन से शुक्राणुओं की संख्या बढ़ने के साथ उनकी गुणवत्ता में सुधार हो सकता है। शोधकर्ताओं ने एक छोटे से अध्ययन में इसके अच्छे परिणामों को देखा है।

हेजलनट्स को कई तरह से खाया जा सकता है। जिनमें से कुछ इस प्रकार है:

कैसे खाएं:

हेजलनट्स के छिलके को निकाल कर सामान्य नट्स की तरह सेवन कर सकते हैं।
इसे भुनकर (रोस्ट) खाया जा सकता है।
हेजलनट्स को अन्य नट्स के साथ मिलाकर मिक्स ड्राई फ्रूट की तरह खा सकते हैं।
इसे केक में इस्तेमाल कर सेवन किया जा सकता है।
हेजलनट्स को कुछ मिठाई में भी उपयोग किया जा सकता है।
इसे मिल्कशेक में मिलाया जा सकता है।
इसे चॉकलेट बनाने में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

कब खाएं :

हेजलनट्स को सुबह छिलकर सामान्य रूप में खा सकते हैं। इसमें अन्य ड्राई फ्रूट्स भी मिला सकते हैं।
दोपहर या रात के खाने के बाद हेजलनट्स युक्त मिठाई या चॉकलेट को डिजर्ट के रूप में ले सकते हैं।
शाम को हेजलनट्स मिल्कशेक पी सकते हैं।
दिन में कभी भी थोड़ी मात्रा में भुने हुई हेजलनट्स का सेवन कर सकते हैं।

कितना खाएं :

हेजलनट्स को प्रतिदिन करीब 20 ग्राम तक लिया जा सकता है , लेकिन सभी के खान-पान की आदत अलग-अलग होती है। ऐसे में किसे कितनी मात्रा में इसका सेवन करना चाहिए, इस बारे में आहार विशेषज्ञ से पूछ सकते हैं।

हेजलनट्स खाने के नुकसान (Hazelnuts Side Effects)

हेजलनट्स सेहत के लिए अच्छे हैं क्योंकि यह पोषक तत्वों से भरपूर हैं. लेकिन यह जान लेना जरूरी है कि आपको आहार में किन पोषक तत्वों या खनिजों को कितनी मात्रा में शामिल करना है. मात्रा और जरूरत की सही जानकारी न होने पर अक्सर सही आहार भी नुकसान पहुंचा सकता है. ऐसे में आप अपने डॉक्टर से सलाह लेकर ही हेजलनट की सेवन और मात्रा तय करें.

1.कुछ लोगो को हेजलनट्स का सेवन करने पर एलर्जी भी हो सकती है। जिन लोगो को हेजलनट्स का सेवन करने पर एलर्जी हो उन्हें तुरंत इसका सेवन बंद करना चाहिए। या फिर डॉक्टरी सलाह लेने के बाद हेजलनट्स का सेवन करना चाहिए।

2.हेजलनट्स फाइबर का एक बेहतर स्त्रोत है। लेकिन अधिक मात्रा में इसका सेवन करने पर फाइबर की मात्रा शरीर में बढ़ जाती है। जिस वजह से पेट फूलना, गैस, एसिडिटी, पेट में दर्द और पेट में ऐंठन जैसी समस्या होती है।

3.पाचन तंत्र सबंधित परेशानी हो तो, हेजलनट्स का ज़्यादा मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए। यह शरीर के लिए नुकसान कारक बनता है।

4.हेजलनट्स के सेवन को लेकर सावधानियां-
कई लोगों को नट्स और हेजलनट्स से एलर्जी होती है। ऐसे लोगों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए। हेजलनट्स के स्वास्थ्य लाभों को प्राप्त करने के लिए यह ध्यान रखना चाहिए कि आप प्रतिदिन कितनी मात्रा में कैलोरी ले रहे हैं। सामान्य आहार में नट्स या हेजलनट्स को शामिल करने से दैनिक कैलोरी की मात्रा बढ़ सकती है। अगर कैलारी को नियंत्रित नहीं किया जाता है तो यह मोटापे का भी कारण बन सकती है।

Note

ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि हेजलनट्स के सेवन से शरीर को क्या फायदे हो सकते हैं। लेकिन इसकी अधिकता सेहत के लिए नुकसानदेह भी हो सकती है। ऐसे में सबसे पहले हेजलनट्स की सीमित मात्रा का ज्ञान होना जरूरी है। उसके बाद ही व्यक्ति हेजलनट्स को अपनी डाइट में जोड़ें। यदि आप कोई स्पेशल डाइट फॉलो कर रहे हैं या किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त हैं तो अपनी डाइट में हेजलनट्स को जोड़ने से पहले एक बार एक्सपर्ट की सलाह जरूरी लें।

Leave a Comment